loading...

बेटी को चांद जैसा मत बनाओ कि हर कोई घूर घूर कर देखे


बेटी को चांद जैसा मत बनाओ कि हर कोई घूर घूर कर देखे
किंतु
बेटी को सूरज जैसा बनाओ ताकि घूरने से पहले सब की नजर झुक जाये.
हम लोग बेटियों के लिये हर तरह अधिक चिंता किया करते हैं
लेकिन
आज के इस युग में एक बेटी दस बेटों के तुल्य है ....

                      ***************

"जो मम्मी, पापा को स्वर्ग ले जाये वह बेटा होता है"
किंतु
"जो स्वर्ग को घर में ले आये, वह बेटी होती है " .....!