loading...

2024 तक BCCI के अध्यक्ष रह सकते हैं दादा, BCCI की बैठक में लिया बड़ा फैसला


भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्‍तान और इस वक्‍त बीसीसीआई अध्‍यक्ष सौरव गांगुली के अध्‍यक्ष बनने के बाद बीसीसीआई की पहली एजीएम आज रविवार को हुई. सौरव गांगुली की प्रतिनिधित्व वाले BCCI ने रविवार को उसके पदाधिकारियों के कार्यकाल को सीमित करने वाले सुप्रीम कोर्ट द्वारा स्वीकृत प्रशासनिक सुधारों में ढिलाई देने का फैसला लिया। BCCI ने इस प्रकार पूर्व भारतीय कैप्टन गांगुली के नौ महीने के कार्यकाल को आगे बढ़ाने का रास्ता साफ करने का प्रयास किया। 

अभी तक भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआइ का सविंधान ये कहता था कि कोई एक सदस्य केवल 6 साल ही बोर्ड या इससे संघ में प्रशासन में शीर्ष पद पर रह सकता है। यही कारण था कि क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बंगाल यानी सीएबी के अध्यक्ष रहे सौरव गांगुली 9 महीने तक इस पद पर रह सकते थे, लेकिन अब ये समय सीमा और उनका कार्यकाल बढ़ सकता है।

मौजूदा संविधान के अनुसार अगर किसी पदाधिकारी ने बीसीसीआई या राज्य संघ में मिलाकर तीन साल के दो कार्यकाल पूरे कर लिए हैं जो उसे तीन साल के लिए कूलिंग ऑफ पीरियड पर जाना होगा। गांगुली बंगाल क्रिकेट बोर्ड के 5 साल 3 महीने तक अध्यक्ष रह चुके हैं। अक्टूबर में उन्हें बीसीसीआई का नया अध्यक्ष चुना गया। गांगुली ने 23 अक्टूबर को बीसीसीआई अध्यक्ष का पद संभाला था और उन्हें अगले साल पद छोड़ना होगा, लेकिन छूट दिए जाने के बाद वह 2024 तक पद पर बने रह सकते हैं।